उत्तराखंड की वादियों में गूंजेगी वेदों की ऋचाएं, स्थापित होंगे वेद केंद्र

...

रुद्रप्रयाग, जोशीमठ, उत्तरकाशी और ऋषिकेश में स्थित महाविद्यालयों में अब वेदों की ऋचाएं गूंजेगी। उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय की पहल पर शासन के संस्कृत शिक्षा अनुभाग ने केदानाथ, बद्रीनाथ, यमनोत्री के पास और ऋषिकेश स्थित संस्कृत महाविद्यालय में वेद केंद्रों की स्थापना करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इन वेद केंद्रों पर वेदों की ऋचाओं का गहनता से अध्ययन किया जाएगा।

शासन स्तर पर वेद केंद्रों की स्थापना को लेकर अध्यक्ष सहित सात सदस्यों की एक समिति का गठन कर दिया है। यह समिति केदारनाथ सनातन धर्म उपाधि संस्कृत महाविद्यालय उखीमठ रुद्रप्रयाग, श्री बद्रीनाथ वेद-वेदांग स्नातकोत्तर संस्कृत महाविद्यालय जोशीमठ, श्री विश्वनाथ स्नातकोत्तर संस्कृत महाविद्यालय उत्तरकाशी और दैवी सम्पद् अध्यात्म संस्कृत महाविद्यालय परमार्थ निकेतन ऋषिकेश में वेद केंद्रों की स्थापना के लिए कार्य योजना तैयार करेंगी।

इस समिति में उत्तराखंड शासन के संस्कृत शिक्षा सचिव को अध्यक्ष, शासन के वित्त विभाग के अपर सचिव, शासन के शिक्षा सचिव, शासन के न्याय अपर सचिव, संस्कृत विवि के कुल सचिव, संस्कृत शिक्षा निदेशक को सदस्य और शासन के संस्कृत शिक्षा के अपर सचिव को सदस्य सचिव नियुक्त किया गया है। इस समिति ने चारों संस्कृत महाविद्यालयों में वेद केंद्रों की स्थापना को लेकर कार्य योजना को तैयारी शुरू कर दी है।


Source:https://www.amarujala.com/dehradun/uttarakhand-veda-centers-will-be-established





Recent News


 2019-12-11


दुनिया के सबसे बड़े हिंदू मंदिर में छिपे हैं कई गहरे राज

हिंदू धर्म भारत का सबसे बड़ा और मूल ध...